दर्द-ऐ-जिंदगी

छोड़ो अब और क्या कहना,
उसे बेवफ़ा कहके हमें क्या है मिलना,
लोगो ने तो पहले ही कहा था
      ये मंजिल है मुश्किल काफ़िर् को मिलना,
दिल ही तो टुटा है अब किसी को क्या कहना,
अभी बाकी है जिंदगी इसी दर्द के साथ जीना।
Advertisements