from unknown writer

सपने है तो खाइशे होगी ,
गम है तो रंजिशे होगी ,
शिकवा ना कर ऐ दोस्त ,
महौबत है तो बेवफाइ भी होगी |
Advertisements

अभी बाकी है !!

1082133172
वादा जो किया था साथ निभाने का वो अभी बाकी हे
ज़िंदगी के सफर में तेरा साथ अभी बाकी है,

आंसू जो मिटाए थे हर गम के मेने,
उन् आँखों की कई खाइशे अभी बाकी है,

हस्ते हुए जो किये थे वादे उन्हें पूरा करोगी तुम
यह उम्मीद अभी बाकी है,

युंं तोह इन हसींन रातो मैं एक शाम और बाकी है
तेरे दीदार को तरसती आँखों मैं आस अभी बाकी है,

गुज़रती हर एक शाम के साथ तेरी यादें बढ़ती चली जाती है
और यादो के सहारे जीने के लिए मेरी ज़िंदगी अभी बाकी है,

तुमने कहा था तुम मिलोगी मुझे एक दिन
उसी ख्वाहिश के लिए अभी मुझमे जान बाकी है,

तेरे साथ हर एक लम्हा जीने के लिए
ज़िंदगी मेरी अभी बाकी है |

महोबत-ऐ-गुलाब

महोबत की हे गुलाब से
तो अब कांटो से क्या घबराना,
राहे होगी मुस्किल मगर
तुम हर ना मन जाना,
आज कल compidition बड़ा तगड़ा हे यारो
अच्छे से प्रेपरेशन कर के जाना.

Status

दोस्ती

images (1)
दिल का नाता हे धरकन से,
रहे ना कभी जुदा होगी मंजिल से,
रोशन हे सवेरा जैसे सूरज से,
वैसे हमारी दोस्ती हे तुमसे सिर्फ तुमसे.

तनहा दर्द

download.jpg
चांदनी रातों का ये नाता हे,
उम्मीदों का डूब जाना किसी को नही भाता हे,
ये दर्द भी तनहा ही तो हे
वर्ना शाम होते सूरज भी क्यों ढल जाता हे. 

महोबत की पहचान

blackandwhitebutterflyshadowsilhouettewoman-0dca4424bfe3d0d86fe6cf494232af62_m
बड़ी मुददतों से चाहा लिखाना था उनका नाम,
कभी आँखो में आंसू
तो कभी दिल में लिए अरमान,
देख के मेरी महोबत-ऐ-अरमान,
कलम ने कहा
अब बस कर ये शायर-ऐ-परवान,
कम्बख़त अब तो ढूंढ़ ले अपनी महोबत की पहचान.

अनमोल

बचपन के वो अनमोल पल याद दिलाने का,
सोई हुए यादो को जगाने का,
जिंदगी तो यही कट रही इनके बिना,
अब वकत हे इन्हे और खुशनुमा बनने का.

अश्क़ो की तम्मना-2

अश्क़ो की तम्मना होती हे आँखो से बिछड़ जाना
चाहे फिर गम हो या ख़ुशी का अफसाना,

मुख़्तसर महोबत से हो के मेने हे जाना
इस राह में दर्द सबने हे पाना,